Thursday, October 18, 2007

अपनी-अपनी खोज़....!


गुगल के नाम से लगभग हर कंप्यूटर इस्तेमाल करने वाला वाकिफ़ होगा। लैरी पेज और सर्जे ब्रिन द्वारा 1996 में स्थापित यह कंपनी रोज़ नए-नए आयाम स्थापित कर रही है। इसके संवृद्धि दर का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि, आज अगर कोई माइक्रोसाफ्ट से इस्तीफा देता है तो अस्सी फ़ीसदी संभावना रहती है कि वह गूगल ही ज्वाईन करेगा। दुनिया के इस सबसे बड़े सर्च इंजन ने अपनी वेबसाइट का इस्तेमाल करने वालों के बारे में एक आंकरा जारी किया है जो बेहद ही दिलचस्प है। इन आंकरों में बताया गया है कि किस देश के लोग गूगल पर क्या सर्च करना ज्यादा पसंद करते हैं। मसलन मिस्र, भारत और तुर्की में सबसे ज्यादा "सेक्स" शब्द को खोजा जाता है। वहीं जर्मनी, मेक्सिको और आस्ट्रिया में सबसे ज्यादा खोजा जाने वाला शब्द "हिटलर" है।
नीचे किस देश में कौन सा शब्द ज्यादा खोजा गया है उसकी सूची दी जा रही है:

"जिहाद" - मोरक्को, इंडोनेशिया और पाकिस्तान
"आतंकवाद" - पाकिस्तान, फिलीपीन्स, ऑस्ट्रेलिया
"हैंगओवर" - आयरलैंड, ब्रिटेन और अमरीका
"ईराक" - अमरीका, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा
"तालिबान" - पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा
"टॉम क्रूज़" - कनाडा, अमरीका और ऑस्ट्रेलिया
"ब्रिटनी स्पियर्स" - मेक्सिको, वेनेज्वेला और कनाडा
"होमोसेक्सुअल" - फिलिपीन, चिली और वेनेज्वेला
"लव" - फिलिपीन, ऑस्ट्रेलिया और अमरीका
"बटाक्स" - ऑस्ट्रेलिया, अमरीका और ब्रिटेन
"वियाग्रा" - इटली, ब्रिटेन और अमरीका
"डेविड बेकहम" - वेनेज्वेला, ब्रिटेन और मेक्सिको
"केट मॉस" - आयरलैंड, ब्रिटेन और मेक्सिको
"डॉली बस्टर" - चेक गणराज्य, आस्ट्रिया और स्लोवाकिया
"कार बम" - ऑस्ट्रेलिया, अमरीका और कनाडा
"मिरजुआना" - कनाडा, अमरीका और आस्ट्रिया
"आईएईए" - आस्ट्रिया, पाकिस्तान और ईरान



Hindi Blogs + India

5 comments:

shivali said...

An excellent research done by Google and by you too to bring forward this .
What I beleive is that people of different countries try to find the world which they can relate to, like if a person from India searches for Sex it not his/her perverted mind or that they dont know about, that rather they associate it with the current happenings in this field in context of what was earleir defined in our holy text of "Kamsutra" defined dignified eroticism.

Nilesh said...

महत्वपुर्ण जानकारी मुहैया कराई है आपने। ऐसे गूगल तो अब जीवन का अंग सा बन गया है।

Sonal Manschinde said...

Excellent Information....It also gives insight into social and economic as well as current events of the country. Keep Informing...BOL

Deepak Singh said...

मुझे लगता है सुचानाओं का आदान-प्रदान होते रहनी चाहिए। आपके कुछ लेख अच्छे लगे। लेकिन सबसे अच्छा स्वीट नथिंग्स और दहेज में रिवाल्वर था।

sushant jha said...

ये तो ठीक है कि हम भारतीय गूगल पर सेक्स शव्द ज्यादा खोजते हैं(आखिर बन्द समाज जो ठहरे) लेकिन ये साले पाकिस्तानी जिहाद और तालिबान से अभी तक नहीं उबर पाए हैं। ये सेक्सुअली इनएक्टिभ हो गए हैं क्या...।या जिहाद,सेक्स जैसी आदिम आकांक्षा पर भारी पर गया है..ये भी हो सकता है कि जिहाद(हिंसा) ही आदिम हो, सेक्स बाद में आया हो..